Outrage after hijab-wearing woman heckled by Hindu mob in India

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई ने कर्नाटक हिजाब विवाद पर प्रतिक्रिया दी, उन्होंने कहा मुस्लिम लड़कियों को पढ़ाई व हिजाब के बीच किसी एक के चयन के लिए मजबूर किया जा रहा है। 

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

कर्नाटक में चल रहे हिजाब विवाद पर अब दुनिया भर से प्रतिक्रियाएं सामने आने लगी हैं। 

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

मंगलवार को हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान भड़की हिंसा के बाद नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। 

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

Hijab Controversy: प्रियंका गांधी बोलीं- 'बिकिनी हो, घूंघट या हिजाब, महिलाओं को मर्जी के कपड़े पहनने का हक' 

 प्रियंका गांधी

उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि, हिजाब में लड़कियों को स्कूल जाने से रोकना भयावह है।  

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

मलाला ने ट्वीट किया- कॉलेज में हमें पढ़ाई और हिजाब के बीच किसी एक का चयन करने के लिए मजबूर किया जा रहा है। हिजाब में लड़कियों को स्कूल जाने से मना करना भयावह है।

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

कम या ज्यादा पहनने के लिए महिलाओं के प्रति एक नजरिया बना रहा है। भारतीय नेताओं को चाहिए कि वे मुस्लिम महिलाओं को हाशिए पर जाने से रोकें। 

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

बढ़ रहा है विवाद एक ओर हाईकोर्ट में हिजाब के मुद्दे पर सुनवाई चल रही थी तो वहीं दूसरी ओर राज्य के पीईएस कॉलेज में विवाद बढ़ता नजर आया। 

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

यहां एक छात्रा के हिजाब पहन कर आने के विरोध में छात्र भगवा गमछा पहन कर जय श्रीराम के नारे लगाने लगे। इसके जवाब में छात्रा ने भी अल्लाह हु अकबर के नारे लगाए। 

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई

वहीं, उडुपी के कॉलेज में भी हिजाब पहनकर आई छात्राओं ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसके जवाब में भगवा गमछा पहनकर आए छात्र उनके सामने आकर नारेबाजी करने लगे। इसके बाद कॉलेज प्रशासन ने मामले को संभाला।   

नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई