हनुमान जयंती 16 अप्रैल को मनाई जाएगी। आइए जानते हैं शुभ मुहूर्त, पूजा विधि....

चैत्र शुक्ल पक्ष की उदया तिथि पूर्णिमा के दिन हनुमान जयंती का पर्व मनाया जाता है।

इस दिन भगवान शिव के 11वें रुद्रावतार, यानि श्री हनुमान जी का जन्म हुआ था।

हनुमान जयंती के दिन केसरी नंदन की विधिवत पूजा की जाती है। हनुमान जयंती पर आज 31 साल बाद विशेष संयोग का निर्माण हो रहा है।

हनुमान जयंती पर शनि मकर राशि में विराजमान हैं। ऐसा संयोग 31 साल बाद बन रहा है।

इस योग में नए काम की शुरुआत को अति उत्तम माना जाता है।

अभिजीत मुहूर्त सुबह 11 बजकर 55 मिनट से दोपहर 12 बजकर 47 मिनट तक रहेगा। यह पूजा का सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त माना गया है।

वास्तव में चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जयंती और कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी को विजय अभिनन्दन महोत्सव के रूप में मनाया जाता है

हनुमान जयंती के दिन श्री हनुमान जी की उपासना व्यक्ति को हर प्रकार के भय से मुक्ति दिलाकर सुरक्षा प्रदान करती है।